क्रीं बीज मंत्र के चमत्कारिक लाभ और सही उच्चारण

इस लेख में हम आज एक चमत्कारी और शक्तिशाली मंत्र के बारे में बताने जा रहे है यह मंत्र शत्रु को नाश करने के लिए और इच्छा आकांक्षा पूरा करने वाला चमत्कारी और शक्तिशाली मंत्र है।

क्रीं यह काली माता का शक्तिशाली बीज मंत्र है इस मंत्र के जाप करने से असभव काम भी सभव बन जाते है। इस मंत्र को महामंत्र नाम दिया गया है क्योकि यह मंत्र शक्तिशाली मंत्रो में से एक है।

इस मंत्र के तीव्रता से जाप करने से शत्रु का नाश होता है इस मंत्र जाप करने से शत्रु से आत्मरक्षा और सुरक्षा की प्राप्ति होती है क्रीं मंत्र जाप करने पुराने रोगो से निवारण होकर स्वास्थ्य अच्छा रहता है और अपने मनोकामनाएं पूर्ण रूप से पूरी होती है। इस मंत्र को जाप करने से पहले काली माता में भक्ति रखकर जाप किया जाता है।

किसी भी मंत्र को बोलते समय उसमे देवी-देवताओं के नाम भी संकेत मात्र से दर्शाए जाते हैं राम के लिए मंत्र जाप करते समय “रां” हनुमान जी के लिए ‘हं’ दुर्गा माता का मंत्र जाप के समय दुं’ का प्रयोग किया जाता है। इन सभी मंत्रो में जो अनुनासिक संकेत लगाए जाते हैं उसको हम नाद कहते है और नाद देवी देवताओ की शक्ति को प्रकट करते है।

Om kleem krishnaya namah mantra meaning and benefits

क्रीं का सही उच्चारण इस प्रकार से है

क्रीं बीज मंत्र चार स्वर-व्यंजनो से रचा गया है।

क = काली

र = ब्रह्म

ईकार = महामाया

अनुस्वार = दुख विनाशक

क्रीं का अर्थ इस प्रकार से है – महाकाली माता मेरे दुखों का नाश करो।

क्रीं बीज मंत्र को जाप करने की बेहतरीन विधि

इस मंत्र को जाप करने के लिए लाल रंग का आशन होना चाहिए इस लाल रंग के आसन पर बैठ कर उतर दिशा मुँह करके 10 मिनट तक मंत्र जाप करे। हमने इस लेख में आपको क्रीं बिज़ जाप करने की विधि और सही उच्चारण के बारे में बताया है

× Whatsapp