Vashikaran Totke

Vashikaran TotkeCompanies supernatural powers? I am certain a lot of us have felt the presence or effect of supernatural powers in certain form or even the other. The brand new era has witnessed an identical supernatural power named “Vashikaran”. An identical link with it’s Vashikaran Totke.

One cannot deny that esoteric science and mystic practices in a sense have grown to be a lesser discussed topic, particularly in the compatible gentry. However, it’s possible to hear a great deal concerning the knowledge and knowledge of nature and it is related natural things. The current scenario speaks concerning the great keenness among people towards mental and spiritual development.

Easy vashikaran totke

Talking about the entire process of fetching the necessary outcome in one’s life, the holy word of Vashikaran actually bears an in-depth meaning. Vashikaran Mantra could be deemed like a weapon to acquire a person or perhaps a number of individuals. Lots of people bear the concept Vashikaran is heinous. It’s much more of a deliberately created and fired notion by some self-centered individuals against Vashikaran Mantra.

Hailed like a renowned scripture, Atharva-Veda has reveal the science behind Vashikaran and Sammohan. Here you have to be wondering as what actually differentiates Vashikaran Totke and Sammohan.

Sammohan describes cast a spell by one onto him inside a bid to boast one’s aura and attractiveness. In layman’s language, it’s a procedure to draw in others towards oneself.

 

 वशीकरण के टोटकों द्वारा आप किसी भी लड़के-लड़की , पुरुष-स्त्री व अपने शत्रु को अपने वश में कर सकते है |

शनिवार के दिन पुष्य नक्षत्र में भोजपत्र पर लाल चन्दन से शत्रु का नाम लिखकर शहद में डुबा देना चाहिए | यह भोजपत्र जब तक शहद में डूबा रहेगा तब तक आपका शत्रु आपके वश में रहेगा |

⇒ सहदेवी व अपामार्ग के रस को लोहे के पात्र में अच्छी तरह घोंटकर उसका तिलक लगाकर शत्रु के सामने जाने से शत्रु आत्म समर्पित हो जाता है |

⇒ करवीर पुष्प व गौघृत दोनों मिलाकर जिस किसी स्त्री का नाम लेकर 108 बार आहुति द्वारा हवन किया जाये और यह क्रम प्रतिदिन चलता रहना चाहिए तो वह स्त्री सात दिन के अंदर साधक के वश में होकर इच्छा पूर्ण करती है |

⇒ पुष्य नक्षत्र में किसी भी धोबी के पैर की धूल जिस किसी सुंदरी के सिर पर डाल दी जाये तो वह स्त्री उसी समय वशीभूत हो जाती है |

⇒ उल्लू पक्षी के रीड की हड्डी, केसर , कस्तूरी और कुंकुम सबको एक साथ घिसकर माथे पर तिलक लगाकर जिस भी स्त्री के सामने जाए वही आपके वशीभूत हो जाएगी |

× Whatsapp