कालसर्प दोष क्या है ? जानिए काल सर्प दोष के आसान अचूक उपाय

हर इंसान को कालसर्प दोष से बहुत डर लगता है क्योकि कालसर्प दोष जीवन की लिए कष्ट दायी होते है इस दोष का नाम सुनते ही लोगो में भय की स्थिति पैदा हो जाती है इसके पीछे कारण है क्योकि जिस इंसान के कुंडली में यह दोष होता है उसके जीवन में अनेक कठिनाई आती है लेकिन इस दोष के निवारण भी है इस दोष से मुक्ति पाने के लिए एक विशेष दिन होता है जिसमे नागपंचमी एक विशेष है।

Read Also

What Is Bhakut Dosh? Effects and Remedies in Horoscope Matching

What is Pitra Dosha? – Online Pitra Dosh Remedies for Marriage

कालसर्प दोष

Kalsharp Dosh

अनन्त – नागपंचमी के दिन एकमुखी, आठमुखी रुद्राक्ष धारण करें।

  • यदि इस दोष के कारण हेल्थ समस्या आ रही है तो नागपंचमी के दिन एक धातु से बना सिका बहते हुए पानी जल प्रवाहित करे।

कुलिक – कुलिक नामक कालसर्प दोष के लिए गर्म वस्त्र का दान करे।

   – चांदी का कोई गोलाकार ठोस आभूषण बनवाकर उसकी पूजा करें और उसे अपने पास रखें।

वासुकि – वासुकि कालसर्प दोष के लिए आप अपने रात को सोते समय तकिये के निचे बाजरे चुन ( धाने ) रखे और वह सुबह जल्दी उठ कर पक्षियों खिला दे।

   – Nag Panchami के दिन Lal धागे में तीन, आठ या नौमुखी रुद्राक्ष धारण करें।

पद्म – पद्म कालसर्प दोष होने पर 40 दिनों तक नियमित रूप से सरस्वती चालीसा का पाठ करें।

      – घर पर तुलसी का पौधा लगाए और पिले कपडे का दान करे।

शंखपाल – शंखपाल कालसर्प दोष से मुक्ति पाने लिए साबुत बादाम अपने इच्छा अनुसार बहते हुए पानी प्रवाहित करे।

     – शिव भगवान का आशीर्वाद ले और शिवलिंक पर पानी के साथ कच्चा दूध मिलाकर उसका शिवलिंक पर अभिषेक करे।

तक्षक – तक्षक कालसर्प योग से छुटकारा पाने के लिए 11 नारियल को बहते हुए पानी में प्रवाहित करे।

    – सफ़ेद चीज़ का दान करे जैसे  – वस्त्र , चावल

महापद्म – इस कालशर्प दोष के लिए हनुमान जी का सुंदरकांड का पाठ करें।

       – गरीब लोगो को भोजन खिलाकर साथ में कुछ दान करे।

कर्कोटक – कर्कोटक योग होने पर बटुकभैरव को दही और गुड़ का भोग और पूजा करे।

     – शीशे के आठ टुकड़े जल परवाह करे।

शंखचूड़ – शंखचूड़ नामक कालसर्प दोष के निवारण के लिए जौ धान के दाने को पक्षियों को खिला दें।

– पांचमुखी रुद्राक्ष धारण करें।

विषधर – विषधर कालसर्प दोष के छुटकारा पाने लिए जितने परिवार में सदस्य उतने नारियल जल में प्रवाहित करे। जल प्रवाहित करने से उन नारियल के सभी घर सदस्यों हाथ जरूर लगवाए।

– भोलेनाथ शिव के मंदिर में जाकर दान दें।

× Whatsapp